बुधवार, 3 जून 2020

How Vietnam became "New China"? कैसे वियतनाम “न्यू चाइना” बन गया?


How Vietnam became "New China"?
कैसे वियतनाम  “न्यू चाइना” बन गया?

How Vietnam became "New China"
Image Source - Google | Image by https://www.scmp.com/comment/opinion/article/3065240/why-vietnam-will-not-replace-china-any-time-soon-worlds


वियतनाम (Vietnam), बांग्लादेश के बाद दक्षिण एशिया का दूसरा सबसे बड़ा कपड़े का निर्यातक (exporter) है। इसी प्रकार इलेक्ट्रॉनिक्स में सिंगापुर के बाद इस क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा निर्यातक (exporter) है। सन 2000 से वियतनाम (Vietnam) का  6% से अधिक का लगातार GDP वृद्धि दर रहा है। 

1975 में 20 साल से चल रहे USA के साथ युद्ध समाप्त होने के समय, वियतनाम (Vietnam), दुनिया का सबसे गरीब देशों में एक था। कैसे वियतनाम 30 सालो में “न्यू चाइना” बन गया? कैसे 30 सालो में 70% गरीबी कम होकर 6% रह गयी?

1986 से वियतनामी सरकार ने कई आर्थिक एवं राजनीतिक सुधार (reforms) प्रारंभ किया,जिसे Doi Moi policy कहा गया। यह समाजवादी झुकाव वाला बाजार अर्थव्यवस्था थी। 
इसमें तीन मुख्य सुधार किए गए-

1. व्यापार उदारीकरण (trade liberalization) , जिसमें धीरे धीरे वैश्विक व्यापार में customs duty को काफी कम किया गया। 1995 में ASEAN में शामिल हुआ, तथा 2002 में USA के साथ Free Trade Agreement की, जिससे इन देशों के साथ व्यापार में सीमा शुल्क (customs) की बाधा समाप्त हुई। 

2. पहले के सभी regulation को न्यूनतम किया और cost of business कम किया।

3. मानव संसाधन और आधारभूत ढांचे (infrastructure) में भारी निवेश किया। 

 उनके सामाजिक और आधारभूत ढांचों में निवेश, market friendly policy से विनिर्माण (manufacturing) के लिए जबरदस्त माहौल बना, काफी मात्रा में विदेशी निवेश आने लगा। Samsung, LG जैसी बड़ी कंपनियों की manufacturing unit वियतनाम में ही है। वियतनाम की कुल GDP के बराबर उसका निर्यात है। 

अब वियतनाम (Vietnam) गरीब देशों के लिस्ट से निकल कर मध्यम आय वर्ग वाले देशों में शामिल हो गया है। 2002  से 2018 के बीच GDP प्रति व्यक्ति 2.7 गुणा बढ़ गया। 

ऐसा नहीं है हर कहानी में केवल सुखद हिस्से होते है,  तेज आर्थिक विकास समस्याएं भी लेकर आता है। वायु प्रदूषण (air pollution) काफी ज्यादा है, waste management बड़ी समस्या बनी हुई है। प्राकृतिक संसाधनों का जम कर दोहन हुआ है, जिससे वियतनाम climate chance के प्रति काफी संवेदनशील (vulnerable) बन गया है। 

इसके अलावा हर समाजवादी देशों की तरह press freedom सबसे बुरा है। हर नागरिक online surveillance में रहता है। मानवाधिकार कार्यकर्ताओं (human right activist) की उपस्थिति स्वीकार्य नहीं है। 

फिलहाल वियतनाम (Vietnam) कोरोना से लड़ाई की बेहतरीन तैयारी और उपाय से वाहवाही बटोर रहा है। जब चीन में 27 केस था तब ही उसने preventive guidelines जारी किया और 11 जनवरी को जब चीन में पहले व्यक्ति की कोरोना से मृत्यु हुई, तब ही चीन से लगने वाली उत्तरी सीमा को सील कर दिया। Mass Testing करके कोरोना को फैलने से रोक रखा है। 

US-China Trade War, दोनों देशों के बीच बढ़ती अविश्वास, कोरोना को फैलाने के चीन के गैर जिम्मेदाराना कार्य से वैश्विक कंपनियां चीन से अपने मैनुफेक्चरिंग को अन्य देश में शिफ्ट करना चाहती है, जिसमें वियतनाम सबसे बड़ा destination बन कर उभरा है। 



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें