रविवार, 17 मई 2020

क्या होता है आर्थिक पैकेज?What is an economic package?

























क्या होता है आर्थिक पैकेज?What is an economic package?


वैसी मौद्रिक या राजकोषीय नीति जो अर्थव्यवस्था में नई जान डालती है, अर्थात सरकार द्वारा खराब अर्थव्यवस्था में पैसे का flow बढ़ाना।


जब भी किसी अर्थव्यवस्था या बाजार में मांग (demand) घटती है, तब उत्पादन घटता है, आय (इनकम) में कमी आती है, बेरोजगारी बढ़ती है, लोगो की पूंजी एवं बचत में कमी आती है, जिससे गरीबी बढ़ती है।  इसे ही रोकने के लिए सरकार एक बड़ी धनराशि अर्थव्यवस्था में डालती है, जिससे लोगो को पूंजी मिलती है , क्रय शक्ति बढ़ती है और फिर से अर्थव्यवस्था पटरी पर आ जाती है। 

अभी हाल में ही भारत के प्रधानमंत्री ने 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा की। यह पैकेज अर्थव्यवस्था के हर क्षेत्र एवं संमाज के आर्थिक रूप से  निचले तबको को विशेष रूप से प्रोत्साहन देता है। 

आर्थिक पैकेज ऐसा नही होता है की पूरी रकम हर व्यक्ति के खाते में डाल दी जाएगी , बल्कि ऐसी व्यवस्था की जाती है कि हर व्यक्ति ईस बुरी परिस्थिति से अच्छे से  बाहर निकल जाए और पुनः अपना व्यवसाय करने लगे।

प्रश्न अब यह उठता है कि इतने पैसे कहा से आएंगे?

देखा जाय तो इस पैकेज का मुख्य हिस्सा बैंक द्वारा लोन देकर पूरा किया जाना है जिसपर सीधे सरकार पर कोई बोझ नही पड़ता है। अन्य बचे हुए हिस्से को सरकार अपनी जमा से, गैर जरूरी खर्च को कम करके, कुछ वस्तुओ में टैक्स बढ़ा कर पूरा कर सकती है। फिर भी अगर जररूत पूरी नही होती है तब सरकार विश्व बैंक या IMF से उधार ले कर पूरा कर सकती है।



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें